राजस्थान: पेड़ से झूलती मिली दो दलित लड़कियों और एक मुस्लिम लड़के की लाश, तीनों नाबालिग

बाड़मेर के स्वरूप का टाला से दीप मुखर्जी की रिपोर्ट। मृतक लड़कियों में से एक के पिता भैरू मेघवाल (41) ने कहा, “मेरी बेटी (13) और भतीजी (12) गुरुवार रात घर में हमारे साथ सोई हुई थीं। आधी रात को जब हमारी नींद खुली तो पता चला कि वे लापता हैं।” उनके शव शुक्रवार सुबह मिले।

राजस्थान के बाड़मेर जिला स्थित सुदूर स्वरूप का टाला गांव में तीन नाबालिगों की मौत के बाद से तनाव का माहौल है। दो दिन पहले जब गांववाले सो कर उठे तो उन्हें एक पेड़ से 3 शव लटकते हुए दिखे। इनमें से दो दलित लड़कियां थीं, जबकि एक मुस्लिम लड़का था। तीनों ही नाबालिग थे। इन तीनों की मौत को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। मृतक लड़कियों में से एक के पिता भैरू मेघवाल (41) ने कहा, “मेरी बेटी (13) और भतीजी (12) गुरुवार रात घर में हमारे साथ सोई हुई थी। आधी रात को जब हमारी नींद खुली तो पता चला कि वे लापता हैं। उनके शव शुक्रवार सुबह मिले। हमें विश्वास है कि उन्हें अगवा करके रेप किया गया, फिर उनकी हत्या कर दी गई।”

हालांकि, भैरू यह बताने में नाकाम रहे कि कैसे इन दोनों लड़कियों को उनके घर से जबरन अगवा कर लिया गया, जबकि परिवार के सदस्य लड़कियों के साथ ही सो रहे थे। वहीं, दूसरी मृतक लड़की के पिता ने 17 साल के देशल खान पर शक जताया, जिसका शव भी लड़कियों के साथ लटकता मिला। भैरू मेघवाल ने कहा, “एक साल पहले हमने एक पंचायत बुलाई थी। वहां मैंने शिकायत की थी कि देशल अक्सर हमारे घर के आसपास मंडराता रहता है। वह अच्छा लड़का नहीं था। उसके कुछ दोस्त अक्सर गांव में हंगामा करते थे।”

वहीं, गांव के बहुत सारे लोगों का मानना है कि ये मौतें लड़कियों और देशल के बीच रिश्तों से जुड़ी हुई हैं। तीनों ही अशिक्षित थे। मृतक लड़कियों और देशल का परिवार आजीविका के लिए खेती पर आश्रित है। गांव के एक बाशिंदे के मुताबिक, “हमें पता है कि उनके संबंध थे। गांव के अधिकततर लोगों को इस बारे में पता है।” लड़कियों के घरवालों ने इस बात से इनकार किया है, जबकि देशल के रिश्तेदार गांववालों की बात से सहमत हैं।

देशल के एक रिश्तेदार ने कहा, “हम नहीं जानते कि क्या हुआ था। लेकिन हां, हमने सुन रखा है कि उसकी लड़कियों से दोस्ती थी। यह जरूर प्यार का मामला है, जिसकी वजह से उसे ऐसा कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ा।” देशल के पिता कासिम खान का मानना है कि उसके बेटे ने आत्महत्या की है।

हालांकि, मेघवालों का कहना है कि लड़कियों का बलात्कार करके उनकी हत्या की गई है। यह भी आरोप लगाया है कि मुस्लिम समुदाय के लोगों ने उन्हें धमकी दी थी। किशन मेघवाल ने कहा, “कुछ दिन पहले उन्होंने मुझे धमकी दी थी।” कुछ गांववालों का दावा है कि जिस पेड़ पर लड़कियों और लड़के के शव लटके मिले, उसके नजदीक चार जोड़ी पांवों के निशान मिले हैं। दावा है कि मौके पर कोई और भी मौजूद था। उन्होंने देशल के दोस्त मोहम्मद हसन पर आरोप लगाया कि वह मौके पर मौजूद था, लेकिन उसके भाई ने इस आरोप को खारिज किया है। पुलिस के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और मेडिकल जांच से पता चला है कि तीनों ने आत्महत्या की है। दोनों लड़कियों के लड़के से संबंध थे। पुलिस के मुताबिक, मौके पर तीन जोड़ी पांवों के निशान मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.