दिल्ली : सीलिंग के विरोध में बंद रहीं दुकाने फिर भी चला अभियान, 8 इलाकों में 179 जगह हुई सीलिंग

सीलींग के हथौड़े की मार कोचिंग सेंटरों के लिए मशहूर मुखर्जी नगर पर भी पड़ रही है।

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में हो रही सीलिंग का दायरा बढ़ता ही जा रहा है। दक्षिणी दिल्ली के विभिन्न बाजारों के व्यापारियों द्वारा शुक्रवार को बंद का आह्वान किए जाने के बावजूद उत्तरी और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने आठ इलाकों में सीलिंग की कार्रवाई की। इस दौरान 179 जगहों पर सीलिंग की गई।

बता दें, सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित मॉनिटरिंग कमेटी के निर्देश पर इन दिनों दिल्ली में बड़े पैमाने पर सीलिंग अभियान चलाया जा रहा है। साउथ एमसीडी के तहत आने वाले साकेत, सुंदर नगर और राजौरी गार्डन इलाकों में शुक्रवार को सीलिंग हुई। साकेत में डीडीए फ्लैट्स के 48 गैरेज को सील किए गए, क्योंकि यहां व्यावसायिक गतिविधियां चलाई जा रही थीं।

इसके अलावा सुंदर नगर की 35 दुकानों पर निगम की टीम ने पड़ताल की और उनमें से 21 दुकानों की पहली और उसके ऊपर की मंजिलों को दुरुपयोग के कारण सील कर दिया गया। वहीं, 7 दुकानों के मालिकों द्वारा कन्वर्जन चार्ज जमा करा देने के कागजात दिखा देने पर उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई।

सीलींग के हथौड़े की मार कोचिंग सेंटरों के लिए मशहूर मुखर्जी नगर पर भी पड़ रही है। कोचिंग सेटरों के बोर्ड हटने लगे हैं, लाइब्रेरी बंद हो रही हैं और बाहर से यहां आकर पढ़ने वाले छात्र परेशान हैं।

व्यापारियों व दुकानदारों में आपसी सामंजस्य न होने के कारण इसमें भी राजनीति शुरू हो गई। इस दौरान तमाम दुकानें खुली रहीं, जिन्हें बंद कराने के लिए मार्केट एसोसिएशन व यूनियन के लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

हौजखास मेन मार्केट के एक दुकानदार ने बताया कि बुधवार को कुछ मार्केट एसोसिएशन के लोग बंद में शामिल होने के लिए इस मार्केट के लोगों से भी आग्रह करने आए थे। लेकिन, यहां के दुकानदारों ने इसमें शामिल होने से मना कर दिया। क्योंकि ये मार्केट पहले से ही कमर्शियल है और इनका कनवर्जन चार्ज जमा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.