एटीएस की छात्राओं ने किया नाश्ते का बहिष्कार

 

संवाद सूत्र, त्यूणी: छात्रावास सुविधा वाले राजकीय बालिका आश्रम पद्धति विद्यालय लाखामंडल में अध्ययनरत ग्रामीण छात्राओं को महीनेभर से मीनू के मुताबिक भोजन नहीं मिल रहा है। इससे खफा छात्राओं ने स्कूल प्रशासन व ठेकेदार के खिलाफ मोर्चा खोला है। रविवार को छात्राओं ने नाश्ते में परोसी गई निम्न क्वालिटी की चीजों का बहिष्कार किया। छात्राओं के समर्थन में उतरे ग्रामीणों ने प्रशासन से मामले की शिकायत की और स्कूल की भोजन व्यवस्था का जिम्मा संभाले प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

 

जनजाति क्षेत्र जौनसार-बावर के सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों में बालिका शिक्षा उत्थान को लाखामंडल में खोले राजकीय बालिका आश्रम पद्धति विद्यालय में आरक्षित एससी व एसटी वर्ग की डेढ़ सौ से ज्यादा छात्राएं अध्ययनरत है। एटीएस में अध्ययनरत 35 छात्राएं इन दिनों हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा दे रही हैं, जबकि अन्य छात्राएं छुट्टी पर है। एटीएस में पढ़ रही ग्रामीण छात्राओं की सुविधा को सरकार ने मुफ्त शिक्षा व खाने-ठहरने की व्यवस्था की है। स्कूल में छात्राओं के भोजन की व्यवस्था का जिम्मा टेंडर प्रणाली के तहत ठेकेदार को सौंपा गया है।

 

ग्रामीणों का आरोप है एटीएस की छात्राओं को महीनेभर से मीनू के मुताबिक खाना नहीं परोसा जा रहा है। मीनू के मुताबिक भोजन न मिलने से नाराज ग्रामीण छात्राओं ने रविवार को नाश्ते में परोसी गई निम्न क्वालिटी की खाद्य सामग्री का बहिष्कार किया। ग्रामीणों का आरोप है एटीएस में अध्ययनरत छात्राओं को महीनेभर से सुबह व शाम दो टाइम भोजन में सिर्फ दाल-चावल परोसे जा रहे हैं।

 

इसके अलावा छात्राओं को रोटी, सब्जी, फल-फ्रूट व दूध आदि नहीं दिया जा रहा। मीनू के तहत खाना व नाश्ता न मलने से नाराज क्षेत्र पंचायत सदस्य कृपाराम भट्ट, पूर्व बीडीसी मेंबर सुशील गौड़, ग्राम प्रधान सुरेश शर्मा, बाबूराम शर्मा, केशव शर्मा, आसाराम शर्मा व मनोज आदि ने एसडीएम से मामले की शिकायत कर प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई ी मांग की है। वहीं, एसडीएम चकराता अशोक कुमार पांडेय ने लाखामंडल एटीएस स्कूल प्रशासन से मामले की रिपोर्ट तलब की है।

दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttarakhand/dehradun-city-12213461.html

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.